महाराष्ट्र महाभूलेख 7/12,8A ऑनलाइन देखें, bhulekh.mahabhumi.gov.in

महसूल (Revenue) विभाग द्वारा महाराष्ट्र राज्य के भूमि सबंधित विवरण को ऑनलाइन डिजिटल माध्यम में उपलब्ध किया गया है। ताकि किसी भी निवासी को अपने भू-विवरण जानने में परेशानी झेलनी न पड़े। कोई भी यूजर भूमि के विवरण को ऑनलाइन ही देख सकता है। विभाग द्वारा जारी ‘Mahabhulekh’ पोर्टल (bhulekh.mahabhumi.gov.in) से आम लोग अपनी ज़मीन के विवरण जैसे- 7/12, 8A,संपत्ति पत्रक,मोजणी आदि को आसानी से निकाल सकते है।

Maharashtra Mahabhulekh Portal
Department byRevenue Dept.
Helpline02026050006
BeneficiaryResidents of the state
Official websitebhulekh.mahabhumi.gov.in

महाभूमि (Mahabhumi) क्या है?

महाराष्ट्र के राजस्व डिपार्टमेंट ने आम लोगों के सुविधा हेतु ‘भूलेख-महाभूमि’ नाम के पोर्टल को लांच किया है। जिसकी मदत से ऑनलाइन ही घर बैठे आवश्यक विवरण डालने के पश्चात भूमि सबंधित सभी डिटेल्स निकाल सकते है। विभाग ने राज्य की मूल भाषा मराठी में ही पोर्टल उपलब्ध किया है। ताकि राज्य के सभी क्षेत्र के लोगों को समझने में कोई समस्या न हो। भू-विवरण सुधार हेतु ऑनलाइन आवेदन भी सबमिट कर सकते है।

महाराष्ट्र सेवार्थ महाकोष में कर्मचारी लॉगिन।

7/12 और 8A ऑनलाइन देखें-

  • सबसे पहले इसके लिए ऑफिसियल वेबसाइट में जाएँ- https://bhulekh.mahabhumi.gov.in/
  • होम पेज में स्थित राज्य के जिलों का नाम दिखाई देगा। उपलब्ध जिले में से की एक पर क्लिक करे जिसका देखना है।
7/12, 8A and property at Mahabhulekh
7/12 तथा 8A ऑनलाइन चेक
  • इसके बाद तीन विकल्प दिखाई देगा- 7/12, 8A और मालमत्ता पत्रक आदि। इनमें से जिसका भी विवरण देखना है उसे चुनें।
  • फिर, जिला नाम,तालुका और गांव का नाम को सेलेक्ट करे।
  • शोध के विकल्प को चयन करे, जिससे देखना चाहते है। चयन किये गए विकल्प का विवरण भरे।
  • कैप्चा कोड को डाले और ‘Verify Captcha to View’ के बटन पर क्लिक करे।

*Note: मोबाइल नंबर के विकल्प में बिना रजिस्टर्ड नंबर भी डाल कर देख सकते है।

Property Card कैसे निकालें?

  1. इसके लिए पहले ‘Digitalsatbara Mahabhumi‘ के इस लिंक को खोलें।
  2. जिसमें तीन विकल्प दिखाई देगा जिनमें से ‘Property Card’ को चयन करना है।
  3. अब, विभाग,जिला,कार्यालय,गांव नाम आदि को सेलेक्ट कर लेना है।
  4. Then, कैप्चा कोड को डालें और “आपली चावडी पहा” बटन पर क्लिक करे।
  5. इसके पश्चात विवरण शो होगा,परन्तु आपको “पहा” लिखें लिंक पर क्लिक करना है।
Mahabhulekh property card
Property कार्ड निकालें

उपलब्ध विभाग और जिलों का नाम

  • अमरावती विभाग
  • पुणे
  • औरंगाबाद विभाग
  • नागपूर
  • नाशिक
  • कोकण

अमरावती विभाग: इस विभाग के अंतर्गत शामिल जिलों का नाम- अमरावती, अकोला, यवतमाल, बुलढाणा और वाशिम है।

पुणे डिपार्टमेंट: इस डिपार्टमेंट के अंतर्गत जिले- पुणे,सोलापूर,सातारा,सांगली और कोल्हापूर शामिल है।

औरंगाबाद विभाग: इसके अंतर्गत शामिल जिलों का नाम-बीड, लातूर, नांदेड, हिंगोली, परभणी, जालना, उस्मानाबाद आदि है।

नागपूर डिपार्टमेंट: इसमें नागपूर,भंडारा,गोंदिया,चंद्रपुर,गडवीरोली और वर्धा जिला को शामिल किया गया है।

नाशिक विभाग: इस विभाग के अंतर्गत धुले,नन्दूबार,जळगाव,नाशिक और अहमदनगर आदि आता है।

कोकण डिपार्टमेंट: इसमें पालघर,ठाणे,रत्नागिरी,रायगढ़,मुंबई उपनगर,सिंधुदुर्ग आदि।

महाभूलेख डिपार्टमेंट के सम्पर्क विवरण

टेलीफोन नंबर020 26050006
ईमेल आईडीdlrmah.mah@nic.in
ऑफिस पता3rd Floor, New Administrative Building, Opposite Council Hall, Pune

FAQs: Mahabhulekh Portal 2024

Q. क्या महाभूलेख पोर्टल में उपलब्ध विवरण को न्यायालय में मान्य होगा?

महाभूलेख पोर्टल द्वारा प्रस्तुत विवरण को देखने और जानकारी के लिए उपयोगी है। न्यायालय में इसे मान्यता नहीं दिया जायेगा।

Q. जमींन विवरण गलत हो तो क्या करना चाहिए?

ऐसे स्थिति में हमारी सलाह है की आपको जल्द से जल्द सुधार के लिए आवेदन करना चाहिए। ताकि ज़मीन विवाद जैसी स्थिति पैदा न हो।

Q. क्या ऑनलाइन भी विवरण सुधार किया जा सकता है?

हाँ, ऑनलाइन माध्यम से भी आवेदन कर सकते है। इसके लिए आप ई हक़ प्रणाली से आवेदन भेज सकते है।

Q. भूलेख महाभूमि क्या सभी राज्यों के लिए उपयोगी है?

नहीं, महाभूमि पोर्टल का उपयोग केवल राज्य (महाराष्ट्र) के लोगों के सुविधा हेतु प्रस्तुत किया गया है। क्योंकि इसमें अन्य स्टेट के भू-विवरण को दर्शाया हुआ नहीं है।

Q. पोर्टल में उपलब्ध डाटा को क्या मराठी में पढ़ सकते है?

चूँकि, महाराष्ट्र में मराठी भाषा भी बोली जाती है। इसलिए अगर किसी को अन्य भाषा में समझने में समस्या हो रही है तो पोर्टल में मराठी भाषा का चयन करे।

Q. महाभूलेख शब्द का तात्पर्य क्या है?

महाभूलेख शब्द का अर्थ है महाराष्ट्र का भूलेख है। राज्य के नाम के आधार पर इसे ऐसा नाम रखा गया है।

Q. पोर्टल में मराठी में भी क्यों दिखाया गया है?

इसका सीधा सा कारण है राज्य में मराठी बोलने वालों की संख्या कही अधिक है।

Q. क्या डिपार्टमेंट द्वारा रिफंड पॉलिसी भी जारी किया है?

हाँ, पोर्टल में रिफंड पॉलिसी से सबंधित नोटिस को भी शो किया गया है। ताकि यूजर को पढ़ के सबंधित जानकारी जानने में मदद मिल सके।

Was this article helpful?
YesNo