(upbhunaksha.gov.in) Bhu Naksha UP: उत्तर प्रदेश भूनक्शा,भूमि विवरण देखें

क्या आप Bhu Naksha UP का देखना चाहते है? उत्तर प्रदेश भू-नक्शा देखना बहुत ही आसान है। इस पोस्ट में उत्तरप्रदेश भू-नक्शा से सबंधित सभी जानकारी के बारे में दिया गया है। सामन्यतः भू-नक्शा हमे ज़मीन से सबंधित कार्य में जरूरत अधिक होती है। भू-नक़्शे के मदत से जमींन के विवरण को निकाला जा सकता है। उत्तर प्रदेश सरकार ने जमींन विवाद को कम करने के लिए भूमि के विवरण को ऑनलाइन कर दिया है। जिसे कोई भी यूजर ऑनलाइन “Bhu Naksha UP के मदत से भूमि का विवरण प्राप्त कर सकते है। यदि आप भी उत्तर प्रदेश भू-नक्शा ऑनलाइन देखना चाहते है, तो इस पोस्ट को पूरा तक जरूर पढ़े। भू-नक्शा को अब ऑनलाइन भी देखा जा सकता है। इसके लिए उत्तर प्रदेश ने upbhunaksha.gov.in पोर्टल को जारी किया है।

Uttar Pradesh Bhu Naksha

योजना/पोर्टल नामउत्तरप्रदेश भू-नक्शा
राज्य उत्तर प्रदेश (UP)
लाभार्थी उत्तरप्रदेश राज्य के निवासी
केटेगरीभूमि सबंधित
उत्तरप्रदेश का क्षेत्रफल 243,286 km2
अथॉरिटीउत्तर प्रदेश राज्य सरकार
योजना कि स्थिति चालू (Active)
सर्विस के प्रकार ऑनलाइन
ऑफिसियल साइट upbhunaksha.gov.in

Bhu Naksha UP क्या है?

उत्तर प्रदेश राज्य के भू-क्षेत्र भाग में स्थित छोटे-छोटे जमीन के भागों को भू-नक्शा द्वारा दर्शाया गया है। उत्तर प्रदेश सरकार ने ऑनलाइन भू नक्शा देखने के लिए भी पोर्टल जारी कर दिया है। जिससे जमीन के खाता संख्या,प्लॉट संख्या और रकवा भी चेक किया जा सकता है। भू-नक्शा में किसी जमीन मालिक के नाम,जमींन के आकर,जमींन के सीमांकन जमींन और अन्य विवरण जान सकते है।

बिहार दाखिल ख़ारिज चेक ऑनलाइन कैसे करे?

Uttar Pradesh Bhu Naksha कैसे देखें?

यदि आप उत्तर प्रदेश के किसी ज़मीन का भू-नक्शा को देखना चाहते है, तो ऑनलाइन ऑफिसियल पोर्टल से देख सकते है। नीचे दिए गए तरीके से जमींन का Details निकाल सकते है। भूमि का विवरण निकालने के लिए निम्न स्टेप को फॉलो करके देख सकते है-

  1. सबसे पहले Official साइट के इस लिंक को खोलें- Link-1 || Link-2
  2. फिर, राज्य,जिला,तहसील और गांव के नाम को चुने।
  3. इसके बाद चुने हुए क्षेत्र का नक्शा दिखाई देगा। जिसमें प्लॉट नंबर / खसरा नंबर दिखाई देगा।
  4. जिस भी प्लॉट नंबर / खसरा नंबर का विवरण देखना चाहते है। उस नंबर पर क्लिक करे।
  5. क्लिक करने बाद ही जमीन का विवरण जैसे- जमींदार का नाम,खाता संख्या,रकवा आदि देख सकते है।
Bhu Naksha UP  Check

जमीन के प्रकार कैसे चेक करे?

उत्तर प्रदेश राज्य में कोई प्रकार के जमींन पाया जाता है। अगर आप जमीन के प्रकार को देखना चाहते है, की किस प्रकार के जमीन है, जैसे- बंजर,अकृषि योग्य भूमि,संक्रमणीय,कृषि योग्य आदि। तो निम्न तरीके को फॉलो करके जाँच कर जान सकते है-

  1. पहले UP BhuNaksha के ऑफिसियल साइट के इस लिंक को Open करे- http://upbhunaksha.gov.in/ or Click Here
  2. फिर,राज्य के नाम,जिला,तहसील और गांव का नाम को सेलेक्ट करे।
  3. अब, “Show Land Types Details” पर क्लिक करे। इसके बाद आप सभी विवरण देख पायेंगें।
Land Type Details of Bhu Naksha UP

उत्तर प्रदेश के भूमि के प्रकार-

  • अन्य कृषि योग्य बंजर भूमि
  • श्मशान और कब्रिस्तान, ऐसे कब्रिस्तानों और श्मशान को छोड़ कर जो खातेदारों की भूमि या आबादी क्षेत्र में स्थित हो।
  • अन्य कारणों से भूमि अकृषित हो।
  • भूमि जो संक्रमणीय भूमिधरों के अधिकार में हो।
  • कृषि योग्य भूमि।
  • अकृषिक भूमि जैसे- सड़क,स्थल,रेलवे,भवन और अन्य भूमि जो कृषि योग्य नहीं हो।
  • अकृषिक भूमि जैसे- जलमग्र जमींन।
  • असंक्रमणीय भूमि जो भूमिधरों के अधिकार में हो।

भू नक्शा से क्या-क्या लाभ है?

भारत के कुछ राज्यों में भू नक्शा को डिजिटल माध्यम से ऑनलाइन कर दिया गया है। नीचे कुछ बिंदु दिए गए है जो भू नक्शा के मदत से लाभ होता है-

  • जमीन के साइज: भू नक्शा से जमीन के आकर को जान सकते है। जमींन कितनी बड़ी है और जमीन के चारों तरफ अन्य कौन से जमीन हैं। जो भूमि उसके सीमा को छूता हो।
  • भूमि मालिक: किसी भी जमीन का सबसे अधिक महत्वपूर्ण है की जमीन का असली मालिक कौन है। क्योंकि अक्सर जमीन के मालिक को लेकर विवाद होता है। But, भू-नक्शा की मदत से भूमि का मालिक का विवरण जान सकते है।
  • जमींन का विवरण ऑनलाइन: भूमि का विवरण ऑनलाइन माध्यम से देखने के लिए जारी किये गए Details से सभी यूजर को आसानी से भूमि से सबंधित जानकारियां प्राप्त किया जा सकता है।
  • वैधता: भू नक़्शे से ज़मीन के वैधता के बारे में जान सकते है। भूमि सरकारी है या नहीं और भूमि पर निर्माण कार्य हो सकता है या नहीं।
  • समय की बचत: जब से भू नक्शा को ऑनलाइन कर दिया गया है। समय की भी बचत हो रही है। जिससे लोगों को आसानी से जमींन के ऑनलाइन भी विवरण मिल जाता है।

Bhu Naksha क्यों जरुरी है?

भारत में अधिकतर विवाद जमींन को लेकर भी होते रहता है। हर साल हजारों की संख्या में जमींन विवाद के मामले देखने को मिलता है। इस समस्या को देखते हुए भारत सरकार द्वारा भू-नक्शा को शुरू किया गया। ताकि जमींन से सबंधित सभी आवश्यक विवरण मिल सके। और निपक्ष तरीके से विवाद को समाप्त हो। भू-नक्शा को लोगों तक आसानी से पहुंचाने के इसे ऑनलाइन भी जारी किया गया। जिसे मोबाइल,कंप्यूटर आदि से देखा जा सकता है। भूमि विवाद में भू- नक्शा को सबूत के तौर पर उपयोग कर जमींन के मालिक विवरण दिखाया जा सकता है।

Important Links

Bhu-Naksha Official Website Link-1 // Link-2
Bhu-Lekha SiteClick Here

FAQ for Bhu Naksha UP Portal 2021

Q. उत्तर प्रदेश भू-नक्शा क्या है और इसका उपयोग क्या है?

किसी भी क्षेत्र के भूमि भागों को नक्शा से दर्शाया जाता है। जिसमे जमीन का आकर छोटा या बड़ा हो सकता है। भू नक्शा से जमींन के Details पता चलता है।

Q. Bhu Naksha की आवश्यकता क्यों होती है?

किसी भी ज़मीन के विवरण जानने के लिए ज़मीन का नक्शा की मदत से भी देखा जाता है। ताकि जान सके की ज़मीन की आकर,मालिक और किस क्षेत्र में स्थित है।

Q. क्या UP Bhu नक्शा को ऑनलाइन चेक किया जा सकता है?

हाँ, उत्तर प्रदेश के अलावा भारत के कुछ राज्य में ऑनलाइन भू नक्शा को जारी किया है। जिसमे उत्तर प्रदेश राज्य भी शामिल है।

Q. किसी भी जमींन के मालिक का नाम पता कैसे करें?

जमींन के मालिक का Details जानने के लिए Official पोर्टल में प्लॉट संख्या / खसरा संख्या को डालें। जिससे भूमि के मालिक का नाम देख पायेंगें।

Q. UP भू नक्शा पोर्टल की सहायता से क्या-क्या जान सकते है?

यूपी भू नक्शा पोर्टल के माध्यम से आप जमींन का नक्शा,जमींन का प्रकार,जमींदार का नाम,जमींन का आकर आदि जान सकते हैं।

Q. क्या उत्तरप्रदेश के भूमि के नक्शा को मोबाइल से भी देख सकते है?

बिलकुल, मोबाइल के माध्यम से भी आसानी से जमींन का नक्शा देख सकते है। जमींन का नक्शा निकाल कर सभी विवरण को देखा जा सकता है।

Q. क्या ऑनलाइन पोर्टल में प्राप्त विवरण न्यायालय में सबूत के तौर पर उपयोग किया जा सकता है?

नहीं, UP Bhu Naksha से प्राप्त Details का उपयोग न्यायालय में साक्ष्य के लिए मान्य नहीं होगा। But, जानकारी के उपयोग किया जा सकता है।

Q. भूनक्शा के प्रमाणित प्रति के लिए क्या करे?

भूनक्शा के प्रमाणित प्रति के लिए जनपदीय अभिलेखागार से सम्पर्क करे। जिसे सबूत के तौर पर उपयोग किया जा सकता है।

Leave a Comment